इस अफ्रीकन हब्शी पर आ गया था बेगम रजिया सुल्ताना का दिल, बना लिया था अपना सेक्स गुलाम

रज़िया अल-दिन जिनका शाही नाम जलॉलात उद-दिन रज़ियॉ था उन्हें इतिहास में रजिया सुल्ताना के नाम से जाना जाता है. वह दिल्ली सल्तनत की पहली और एकमात्र महिला सुल्तान थी. रज़िया ने 1236 से 1240 तक दिल्ली सल्तनत पर राज किया था. वह गुलाम वंश के पूर्व सुल्तान इल्तुतमिश की पुत्री थी.

इस अफ्रीकन हब्शी पर आ गया था बेगम रजिया सुल्ताना का दिल, बना लिया था अपना सेक्स गुलाम
Source

तुर्की मूल की रज़िया को अन्य राजकुमारों की तरह सेना का नेतृत्व तथा प्रशासन के कार्यों में अभ्यास कराया गया था, ताकि ज़रुरत पड़ने पर उसका इस्तेमाल किया जा सके. रज़िया सुल्ताना ना ही मात्र भारत में पहली मुस्लिम शासिका थीं बल्कि वह तुर्की इतिहास की भी पहली महिला शासक थीं.

बताया जाता है कि, गद्दी संभालने के बाद रज़िया ने पारंपरिक मुस्लिम रीतिरिवाज़ों के विपरीत पुरुषों की तरह सैनिकों का कोट और पगडी पहनना पसंद किया. इसके साथ ही वह युद्ध में भी बिना नकाब पहने शामिल हुई. रजिया मुस्लिमों की पर्दा प्रथा का त्याग कर पुरषों कि तरह चोगा (काबा) कुलाह (टोपी) पहनकर दरबार में खुले मुंह जाती थीं.

रजिया का यह शौक मुस्लिम कट्टरपंथियों को बिलकुल भी रास नहीं आता था लेकिन रजिया ने कभी उन्हें भाव नहीं दिया बल्कि वही किया जो उन्हें सही लगा. रजिया का एक और शौक था जिसे मुस्लिम कट्टरपंथियों को इतनी दिक्कत होनी शुरू हो गयी कि उन्होंने रजिया के खिलाफ साजिशें रचना शुरू कर दिया था.

दरअसल उस समय मुस्लिम सुल्तानों के यहाँ गुलाम रखने की प्रथा थी. इन गुलामों में महिलाएं और पुरुष दोनों ही हुआ करते थे जो कि दुनिया के कई कोनों से लाये गये होते थे. इसी तरह रजिया के पास भी कई गुलाम थे जिनमें से एक रजिया को इतना ज्यादा पसंद आ गया था कि रजिया ने अपना सलाहकार नियुक्त कर दिया था.

 अगले पेज पर जानिए कौन था वो हब्शी गुलाम जिससे बन गये थे रजिया के अंतरंग संबंध 

 NEXT पर क्लिक कर जाएँ अगले पेज पर