पाकिस्तान में हिन्दू लड़कियों के साथ जो हो रहा, वो इंसानियत पर कलंक है

हिन्दू लड़कियों का अपहरण और उनका इस्लाम में धर्मांतरण पाकिस्तान में आम हो गया है

पाकिस्तान में हिन्दू लड़कियों के धर्मांतरण का मुद्दा आजकल गरमाया haपाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के साथ अत्याचार आम बात है. अभी ज्यादा दिन नहीं बीता जब एक अहमदी मुसलमान को मात्र इसलिए इमरान खान के सलाहकार पद से हटा दिया गया क्योंकि वो अहमदिया मुसलमान समुदाय से ताल्लुक रखते थे. ज्ञात हो कि अहमदियों को पाकिस्तान में मुसलमान नहीं समझा जाता है.

पाकिस्तान में हिन्दू लड़कियों के साथ जो हो रहा, वो इंसानियत पर कलंक है
Source

आजकल पाकिस्तान में हिन्दू लड़कियों को चुन-चुनकर निशाना बनाया जा रहा है. पाकिस्तान के सिंध प्रान्त को अगर हिन्दुओं के लिए नर्क कहा जाय तो गलत नहीं होगा. पिछले एक महीने के अंदर ही सिंध में 16 से अधिक घटनायें सामने आई हैं जहां हिन्दू लड़कियों को अपहरण किया गया है.

पाकिस्तान से आई मीडिया रिपोर्टों की माने तो पाकिस्तान में जिन हिन्दू लड़कियों का अपहरण किया गया वो सब नाबालिग हैं और शादी के लायक उनकी उम्र ना होने के बावजूद उनकी बड़े उम्र के पुरुषों से शादी कर दी गयी. शादी से पहले इन सभी लड़कियों को इस्लाम कबुलावाया गया था.

पाकिस्तान में मानवाधिकार के लिए काम करने वाले कार्यकर्ताओं की माने तो पाकिस्तान में अपहृत होने वाली लड़कियों को जबरन इस्लाम कबूलने पर मजबूर किया जा रहा है जिसके खिलाफ खुद पाकिस्तानी आवाम भी हैं और इसके खिलाफ प्रदर्शन भी कर रही है लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही.

पाकिस्तान में हिन्दू लड़कियों के साथ हो रहे अत्याचारों पर ना ही मात्र पाकिस्तान में बल्कि भारत, अमेरिका और कनाडा में भी आवाजें मुखर होने लगी हैं. कुछ देशों ने पाकिस्तान में हिन्दू लड़कियों के दमन को रोकने की अपील की है. कनाडा-अमेरिका में रहने वाले पाकिस्तानी नागरिकों ने भी पाकिस्तान से हिन्दू लड़कियों का धर्मांतरण रोकने की अपील की है.

पाकिस्तान का उदारवादी तबका जिसमें हिन्दू मुस्लिम सभी हैं वह हिन्दू लड़कियों के इस्लाम में धर्मांतरण का विरोध कर रहे हैं. भारतीय विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने भी पाकिस्तान में हिन्दू लड़कियों के साथ हुए अत्याचारों को लेकर भारतीय उच्चायोग से रिपोर्ट भेजने को कहा है.