औरतों के बाथरूम को लेकर ये क्या कह गये मौलाना, देखें वीडियो

दुनिया भर के मौलवी और इमाम आये दिन अपने अजीबोगरीब बयानों के चलते चर्चा में रहते हैं. इस बार भारत के एक मौलाना ने आवेश में आकर टीवी पर लाइव चल रहे एक प्रोग्राम में कुछ ऐसी बातें कह दीं जो कम से कम एक मजहबी इंसान को नहीं कहनी चाहिए.

औरतों के वाशरूम को लेकर ये क्या कह गये मौलाना, देखें वीडियो
Symbolic Image, Source

पिछले दिनों जब हज जाने को लेकर नई नीति आई तो तय हुआ कि अब मुस्लिम महिलाएं जो हज जाना चाहती हैं वो अकेली भी जा सकेंगी. इस नीति को लेकर देशभर में कई मुस्लिम विरोध में हैं तो कुछ इसे सही मान रहे हैं. क्योंकि ये नीति उन महिलाओं के लिए बेहतर साबित होगी जो अकेली हैं और हज जाना चाहती है लेकिन पुरानी नीति के हिसाब से वो अकेली नही जा सकती थी. इसी मुद्दे पर एक अंग्रेजी न्यूज़ चैनल टाइम्स नाउ पर हो रही बहस में एक मौलाना ने महिलाओं पर अपनी सारी हदें पार करते हुए कुछ ऐसा बोल दिया कि जो बेहद शर्मसार करने वाला था.

महिलाओं को अकेले हज जाने की नीति पर मौलाना मकसूद अल हसन कासमी ने बोलते-बोलते हद पार कर दी और कहा कि अगर अकेले की बात है तो और बात बराबरी की है कि पुरुष और महिलाएं बराबर हैं तो वाशरूम भी एक होने चाहिए. जिससे दोनों की बराबरी कायम होगी. उन्होंने कहा कि ‘अगर ये नई हज नीति महिलाओं को बराबरी का दर्जा देती है तो पुरुषों और महिलाओं के वॉशरूम अलग-अलग क्यों होते हैं, वो भी एक होने चाहिए!’

मौलाना मकसूद अल हसन कासमी ने अपनी बात को सिद्ध करने के लिए कुछ और तथ्य दिए. उन्होंने कहा कि “चुनाव आयोग भी पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग पोलिंग बूथों बनाता है और यहीं नही क्रिकेट टीम भी अलग-अलग है, महिलाओं और पुरुषों की, और तो और दोनों के लिए अलग-अलग वाशरूम तक अलग होते हैं.”

इसके बाद एंकर ने उन्हें अच्छे से समझाते हुए बताया कि “मौलवी साब आप समझदार इंसान हैं लेकिन आप ही ऐसी बात करने लगेंगे तो समझ से बाहर है कि आपसे क्या बात करूँ. आपने बराबरी और भेदभाव के बीच का पर्दा ही हटा दिया.”