इस फल के सेवन से कोई भी बीमारी नहीं बच सकती, चाहे वो एड्स हो या कैंसर

प्रकृति ने हमें फल-फूल और सब्जियों के रूप में ऐसे कई उपहार दिए हैं जिनका अगर रोजाना सेवन किया जाय तो शरीर को कोई भी रोग छू भी नहीं सकता है. आज हम आपको बता रहे हैं एक ऐसे ही फल के बारे में :

कई शोधों के पश्चात नोनी के रूप में वैज्ञानिकों को एक ऐसी संजीवनी हाथ लगी जो मधुमेह, अस्थमा, गठिया, दिल के मरीजों सहित कई बीमारियों के इलाज में रामबाण साबित हो रहा है. शोध के मुताबिक अब नोनी फल कैंसर व लाइलाज एड्स जैसी खतरनाक बीमारियों में भी कारगर साबित हो रहा है.

इस फल के सेवन से कोई भी बीमारी नहीं बच सकती, चाहे वो एड्स हो या कैंसर
Source

नोनी फल पर अब तक किए गए शोध के अनुसार, इसका प्रयोग दवाईयों और हर तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने में किया जा सकता है. बाजार में नोनी जूस भी दवा के तौर पर उपलब्ध है, जो कई तरह से फायदेमंद है. 2 नोनी आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में जबरदस्त इजाफा करता है, जिससे आप बीमारियों से लड़ने के लिए खुद सक्षम हो जाते हैं और बीमार नहीं होते.

कृषि वैज्ञानिक नोनी को मानव स्वास्थ्य के लिए प्रकृति की अनमोल देन बता रहे हैं. वैज्ञानिकों के अनुसार समुद्र तटीय इलाकों में तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र, उड़ीसा, आंध्रप्रदेश, गुजरात, अंडमान निकोबार, मध्यप्रदेश सहित नौ राज्यों में 653 एकड़ में इसकी खेती हो रही है. कृषि वैज्ञानिक चयन मंडल भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के पूर्व चेयरमैन व व‌र्ल्ड नोनी रिसर्च फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ. कीर्ति सिंह ने कहा कि इस फल में दस तरह के विटामिन, खनिज पदार्थ, प्रोटीन, फोलिक एसिड सहित 160 पोषक तत्व हैं.

इतने पोषक तत्वों की मौजूदगी के चलते उच्च रक्तचाप, हृदय, मधुमेह, गठिया, सर्दी जुकाम सहित अनेक बीमारियों में औषधि के रूप में काम आता है. उन्होंने कहा कि यह एंटी ऑक्सिडेंट है. यदि शुरू से इसका सेवन किया जाए तो कैंसर नहीं होगा. उन्होंने बताया कि फाउंडेशन कैंसर व एड्स पर नोनी के प्रभाव का शोध कर रहा है. इंदौर में करीब 25 एड्स मरीजों को नियमित नोनी का जूस देने पर वे अब तक ठीक हैं.

इसके अलावा मुंबई, बेंगलुर, हैदराबाद, चेन्नई सहित कई मेट्रो शहरों में दर्जनों कैंसर पीडि़तों को यह दिया जा रहा है, जिन्हें अस्पतालों ने डिस्चार्ज कर दिया था. यह देखा जा रहा है कि जिन मरीजों को नोनी दिया जा रहा है, उनकी उम्र बढ़ गई है. हालांकि अभी यह नहीं कहा जा सकता है कि नोनी के सेवन से कैंसर व एड्स पूरी तरह ठीक ही हो जाएगा, शोध जारी है. दूसरे देशों में भी इस पर शोध चल रहे हैं.